Breaking News

दिल्ली में बन रहे केदारनाथ मंदिर का उत्तराखंड में विरोध शुरू, चमोली में नारेबाजी     |   मुंबई एक्सप्रेस हाईवे पर ट्रैक्टर और बस में टक्कर, 4 लोगों की मौत     |   ग्रेटर नोएडा में पिकअप से टकराई गाड़ी, 3 की मौत नौ घायल     |   जम्मू के डोडा हाईवे पर सुरक्षाबलों ने बढ़ाई सुरक्षा     |   वर्ली हिट एंड रन मामला: मिहिर शाह को आज कोर्ट में पेश करेगी पुलिस     |  

480kmph की स्पीड, एयरबस ने स्पेन में भारतीय वायुसेना को सौंपा पहला सी295 विमान

एयरबस डिफेंस एंड स्पेस ने बुधवार को 56 सी295 परिवहन विमानों में से पहला भारतीय वायु सेना को सौंप दिया। भारतीय वायु सेना को आधुनिक बनाने के उद्देश्य से सरकार ने ‘एयरबस डिफेंस एंड स्पेस कंपनी’ के साथ दो साल पहले 21,935 करोड़ रुपये में 56 सी295 परिवहन विमानों को खरीदने का सौदा किया था।

स्पेन के सेविले शहर में बुधवार को आयोजित कार्यक्रम में भारतीय वायु सेना प्रमुख वी.आर. चौधरी को एयरबस कंपनी के उत्पादन संयंत्र में ये विमान सौंपा गया। इस मौके पर स्पेन में भारत के राजदूत दिनेश के. पटनायक भी मौजूद थे।

सौदे के तहत एयरबस 2025 तक सेविले में अपनी अंतिम असेंबली लाइन से 'फ्लाई-अवे' स्थिति में पहले 16 विमान देगा। इसके बाद दोनों कंपनियों के बीच हुए एक औद्योगिक साझेदारी के हिस्से के रूप में शेष 40 विमानों का निर्माण और संयोजन भारत में टाटा एडवांस्ड सिस्टम्स लिमिटेड(टीएएसएल) के जरिए किया जाएगा।

भारत में 13,600 से ज्यादा पार्ट और 7,600 उप-असेंबली बनाई जाएंगी। 125 से अधिक एमएसएमई इस कार्यक्रम (भारत में सी295 विमान के निर्माण के लिए) में भाग लेंगे। एमएसएमई को देश के सात से अधिक राज्यों से लिया गया है। वडोदरा में सी295 विमान के लिए निर्माण और उत्पादन संयंत्र स्थापित होने जा रहा है।

भारतीय वायु सेना (आईएएफ) छह दशक पहले सेवा में आए पुराने एवरो-748 विमानों के अपने बेड़े को बदलने के लिए सी295 विमान खरीद रही है। विमान निर्माता ने कहा कि वैश्विक सी295 कार्यक्रम में 39 ऑपरेटरों के कुल 280 ऑर्डर शामिल हैं जो इसे अपने वजन और मिशन वर्ग में बेजोड़ विमान बनाता है।

सी295 को एक बेहतर विमान माना जाता है जिसका इस्तेमाल 71 सैनिकों या 50 पैराट्रूपर्स के सामरिक परिवहन के लिए किया जाता है। इसके अलावा इसका इस्तेमाल उन स्थानों पर सैन्य साजो-सामान और रसद पहुंचाने के लिए किया जाता है, जहां मौजूदा भारी विमानों के जरिए नहीं पहुंचा जा सकता।  

भारत के लिए निर्मित पहले सी295 विमान ने मई में सेविले में अपनी पहली उड़ान सफलतापूर्वक पूरी की थी। दूसरे विमान का निर्माण सेविले उत्पादन संयंत्र में अंतिम चरण में है और इसे अगले साल मई में भारतीय वायुसेना को सौंपा जाना तय है। आईएएफ सी295 का दुनिया का सबसे बड़ा ऑपरेटर होगा।