Breaking News

दमदम और कोलकाता लोकसभा क्षेत्र में आज दो पदयात्राएं करेंगी ममता बनर्जी     |   दिल्ली HC ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में सत्येन्द्र जैन की डिफॉल्ट जमानत याचिका पर ED को भेजा नोटिस     |   अरविंद केजरीवाल को SC से झटका, अंतरिम जमानत 7 दिन बढ़ाने की याचिका पर तुरंत सुनवाई से इनकार     |   घाटकोपर होर्डिंग मामला: SIT ने मुंबई GRP रेलवे के ACP को भेजा समन, मंगलवार को पूछताछ के लिए बुलाया     |   कोलकाता में आज शाम रोड शो करेंगे पीएम मोदी     |  

LSG vs DC: लखनऊ के इकाना स्टेडियम में गूंजा अबकी बार 400 पार

आईपीएल 2024 का 26वां मैच लखनऊ सुपर जायंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच लखनऊ के इकाना स्टेडियम में खेला गया. लखनऊ के दर्शकों के बीच इस मुकाबले को लेकर जबरदस्त जोश देखने को मिला. यह मुकाबला शाम को साढ़े सात बजे से शुरू हुआ.

कप्तान केएल राहुल ने टॉस जीत कर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया. लखनऊ ने पहले बल्लेबाजी करते हुए निर्धरित 20 ओवरों में 7 विकेट के नुकसान पर 168 रन का लक्ष्य दिल्ली कैपिटल्स के सामने रखा. जवाब में खेलने उतरी दिल्ली ने शानदार बल्लेबाजी दिखाते हुए 19वें ओवर में 4 विकेट खोकर इस सीजन में अपनी दूसरी जीत दर्ज की. 

इकाना स्टेडियम में गूंजा अबकी बार 400 पार का नारा 
इंडियन प्रीमियर लीग के तहत लखनऊ के अटल बिहारी वाजपेयी इकाना स्टेडियम में खेले गए लखनऊ सुपर जाइंट्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेले गए मैच के दौरान दर्शकों के बीच अबकी बार 400 पार का नारा देखने को मिला. मैदान में क्रिकेट प्रेमी भारतीय जनता पार्टी के नारे का समर्थन करने के लिए विशाल बैनर लेकर आए हुए थे और इसके साथ ही वे प्रधानमंत्री के पक्ष में नारे लगाते हुए भी यहां नजर आ रहे थे. लेकिन इकाना में यह पहला मौका नहीं है, इससे पहले भी मैचों के दौरान समाजवादी पाटी के समर्थक बड़ी संख्या में मैदान में पहुंचकर अखिलेश यादव के समर्थन में नारे लगाते रहे, मगर इस बार भाजपा का समर्थन भी ग्राउंड में नजर आया. पिछले साल विश्वकप क्रिकेट मुकाबले के दौरान भारत और इंग्लैंड के बीच एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच खेला गया था. समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव इस मुकाबले को देखने के लिए यहां पहुंचे थे. इस दौरान बड़ी संख्या में समाजवादी पार्टी के समर्थक भी मैदान में नजर आए थे. 

क्रिकेट मैच में राजनीति को लेकर क्या हैं नियम 
अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मुकाबले और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट लीग के दौरान आईसीसी का नियम साफ है. किसी भी तरह के राजनीतिक प्रदर्शन की इजाजत किसी मैच के दौरान ना तो दर्शकों की दी जाती है और ना ही खिलाड़ियों को. ऐसा करने की दशा में खिलाड़ी या दर्शक के खिलाफ एक्शन लिया जा सकता है.