Breaking News

गुजरात: प्रियंका 27 अप्रैल को वलसाड तो 29 अप्रैल को राहुल पाटन में करेंगे जनसभा     |   सुप्रीम कोर्ट पहुंचे हेमंत सोरेन, हाईकोर्ट में याचिका पर सुनवाई में देरी की शिकायत की     |   महाराष्ट्र: भाषण देते हुए मंच पर गिरे गडकरी, यवतमाल में चुनावी सभा की घटना     |   अखिलेश यादव कल दोपहर 12 बजे कन्नौज से नामांकन करेंगे     |   बीरभूम में ममता की रैली, बोलीं- BJP को खुश करने के लिए EC ने कराया इतना लंबा चुनाव     |  

सपा-कांग्रेस में चल रहा ‘तुम मेरे हो’ वाला फॉर्मूला, क्या बनेगा जीत की गारंटी

राजनीति में रिश्तों के मायने बदलते रहते हैं. कभी जरूरत के हिसाब से तो कभी आपसी संबंध के लिहाज से. वैसे तो यूपी में समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन है, लेकिन दोनों पार्टियों के बीच कभी गर्म तो कभी नरम रिश्ते रहे हैं. एक दौर था जब नेताओं को तोड़ने के आरोप में गठबंधन तक टूट की कगार पर पहुंच गया था. लखीमपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद रहे रवि वर्मा का मामला ऐसा ही है. अखिलेश यादव का साथ छोड़कर वे कांग्रेस में चले गए. उन दिनों वे समाजवादी पार्टी में महासचिव थे. वे खीरी से चुनाव लड़ना चाहते थे. समाजवादी पार्टी ने मना कर दिया तो रवि वर्मा ने पार्टी बदल ली. बस यहीं बात बिगड़ गई.