Breaking News

प्रतिबंधित संगठन सिमी (SIMI) का सदस्य हनीफ शेख 22 साल बाद गिरफ्तार     |   बसपा को एक और झटका, कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं जौनपुर से सांसद श्याम यादव: सूत्र     |   छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के साथ सुरक्षाकर्मियों की मुठभेड़, 3 नक्सली ढेर     |   कोलकाता: आनंदपुर इलाके में एक बस्ती में लगी आग, करीब 50 झुग्गियां जलकर राख     |   पीएम मोदी ने मन की बात में देश के कई मुद्दों पर की चर्चा     |  

बीजेपी से बिछड़ने वाले फिर करने लगे एनडीए की सवारी

लोकसभा चुनाव का भले ही औपचारिक ऐलान न हुआ हो, लेकिन सियासी बिसात बिछ चुकी है और शह-मात का दांव भी खेले जाने लगा है. बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए से नाता तोड़कर अलग हो चुके एक-एक सहयोगी दलों की वापसी शुरू हो चुकी है. नीतीश कुमार की जेडीयू, ओम प्रकाश राजभर की सुभासपा की वापसी के बाद अब चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी, जयंत चौधरी की आरएलडी और सुखबीर सिंह बादल की अकाली दल एनडीए की सवारी करने की तैयारी है. जिसकी पटकथा लिखी जा चुकी है. तो उद्धव ठाकरे का मन इन दिनों डगमगा रहा है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या उद्धव ठाकरे की अब बारी है

उद्धव ठाकरे ने तीन दिन पहले कोंकण में मीडिया से बात करते हुए कहा था, ‘मैं मोदीजी को बताना चाहता हूं कि हम कभी भी आपके दुश्मन नहीं थे. आज भी हम दुश्मन नहीं हैं. हम आपके साथ थे. हमने पिछली बार आपके लिए प्रचार किया था.’ उद्धव ठाकरे ने कहा था कि पीएम मोदी ने ही शिवसेना के साथ संबंध तोड़ने का फैसला किया था. उद्धव ठाकरे के इस बयान से महाराष्ट्र की राजनीति गरमा गई थी, चर्चा शुरू हो गई थी कि उद्धव फिर से बीजेपी के साथ गठबंधन की तैयारी में तो नहीं है