Breaking News

प्रतिबंधित संगठन सिमी (SIMI) का सदस्य हनीफ शेख 22 साल बाद गिरफ्तार     |   बसपा को एक और झटका, कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं जौनपुर से सांसद श्याम यादव: सूत्र     |   छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के साथ सुरक्षाकर्मियों की मुठभेड़, 3 नक्सली ढेर     |   कोलकाता: आनंदपुर इलाके में एक बस्ती में लगी आग, करीब 50 झुग्गियां जलकर राख     |   पीएम मोदी ने मन की बात में देश के कई मुद्दों पर की चर्चा     |  

उत्तराखंड: रैट माइनर्स मजदूरों के करीब, सुरंग से कभी भी आ सकती है खुशखबरी

रैट-होल ड्रिलिंग के जरिये बचावकर्मी उत्तराखंड में उत्तरकाशी की सुरंग में मजदूरों के काफी पास तक पहुंच गए हैं। सुरंग में फंसे 41 मजदूरों से बचाव कर्मी महज करीब छह मीटर की दूरी पर हैं। बारह रैट-होल खनन विशेषज्ञ चार धाम मार्ग पर निर्माणाधीन सुरंग के ढह गए हिस्से के मलबे में मैन्युअल ड्रिलिंग से खुदाई कर रहे हैं। 

ये ड्रिलिंग पहले एक बड़ी ऑगर मशीन से की जा रही थी जो शुक्रवार को मलबे में फंस गई। इसके बाद अधिकारियों ने फैसला लिया कि अंतिम चरण की खुदाई मैन्युअल तरीके से की जाएगी। सोमवार शाम तक फंसे हुए बरमे के आखिरी टुकड़े को काट कर निकाल दिया गया।

इसके साथ ही सुरंग के ऊपर से वर्टिकल ड्रिलिंग से भी 36 मीटर की खुदाई कर ली गई है। मजदूरों तक पहुंचने के लिए करीब 86 मीटर खुदाई करनी है। दिल्ली में राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) सैयद अता हसनैन ने कहा कि रविवार से शुरू हुई वर्टिकल ड्रिलिंग पहले ही 36 मीटर की गहराई तक पहुंच चुकी है।

अधिकारियों ने कहा, हालांकि, वर्टिकल ड्रिलिंग में भूमिगत पानी मिलने पर "डीवाटरिंग" किया गया लेकिन इससे ऑपरेशन पर कोई खास असर नहीं पड़ा। प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी.के.मिश्रा, गृह सचिव अजय भल्ला और उत्तराखंड के मुख्य सचिव एस.एस. संधू सोमवार को ऑपरेशन का जायजा लेने के लिए सिल्क्यारा आए थे।