Breaking News

प्रतिबंधित संगठन सिमी (SIMI) का सदस्य हनीफ शेख 22 साल बाद गिरफ्तार     |   बसपा को एक और झटका, कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं जौनपुर से सांसद श्याम यादव: सूत्र     |   छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के साथ सुरक्षाकर्मियों की मुठभेड़, 3 नक्सली ढेर     |   कोलकाता: आनंदपुर इलाके में एक बस्ती में लगी आग, करीब 50 झुग्गियां जलकर राख     |   पीएम मोदी ने मन की बात में देश के कई मुद्दों पर की चर्चा     |  

झारखंड के छह परिवारों के लिए 17 दिनों की कठिन परीक्षा का अंत, परिजनों में खुशी

उत्तराखंड रेस्क्यू ऑपरेशन: झारखंड में छह मजदूरों के परिवारों में उस वक्त खुशी की लहर दौड़ पड़ी जब उन्हें ये खबर मिली कि सिल्क्यारा सुरंग में मलबे के पीछे फंसे सभी 41 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है। झारखंड सरकार के अधिकारी भी पूर्वी सिंहभूम जिले के मानिकपुर गांव में मजदूरों के घर पहुंचे और खुशी जाहिर करते हुए मिठाइयां बांटी।

डुमरिया के थाना प्रभारी संजीवन उराव ने बताया कि मजदूरों के परिवारों को 17 दिनों तक मुश्किलों से गुजरना पड़ा। संजीवन उराव ने कहा कि प्रशासन की तरफ से परिवारवालों को पल-पल की जानकारी दी जा रही थी। 

डुमरिया ब्लॉक विकास अधिकारी चंचल कुमारी ने कहा कि 17 दिनों तक मजदूरों को जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष करना पड़ा। वो यहां मजदूरों के परिवार के साथ खुशी साझा करने आईं है। चंचल कुमारी ने जानकारी देते हुए बताया कि जल्द ही मजदूरों को जमशेदपुर लाया जाएगा और प्रशासन उन्हें सुरक्षित घर पहुंचाने में मदद करेगा।

लगभग 17 दिनों तक आशा और निराशा के बीच लटके रेस्क्यू ऑपरेशन में बचावकर्मियों ने मंगलवार रात को सुरंग में फंसे सभी 41 मजदूरों को बाहर निकाला। मजदूरों ने प्रधानमंत्री मोदी, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी और रेस्क्यू टीम की तरफ से किए गए प्रयासों की सराहना की है।