Breaking News

जम्मू-कश्मीर के गुलमर्ग में बर्फीला तूफान, कई विदेशी सैलानी फंसे     |   मोहम्मद शमी बाएं टखने की चोट के कारण IPL 2024 से हुए बाहर, UK में करानी पड़ेगी सर्जरी     |   हरियाणा: कांग्रेस ने विधानसभा में खट्टर सरकार के खिलाफ पेश किया अविश्वास प्रस्ताव     |   स्वामी प्रसाद मौर्य ने लॉन्च किया अपना राजनीतिक दल, राष्ट्रीय शोषित समाज पार्टी रखा नाम     |   लोगों का पीएम पर भरोसा, तीसरा ही नहीं बल्कि चौथे टर्म में भी होगी मोदी सरकार: राजनाथ सिंह     |  

आतंकियों का ठिकाना बना अलीगढ़, एटीएस की चार माह में तीसरी कार्रवाई

दीपावली से पहले यूपी एटीएस की कार्रवाई ने एक बार फिर एएमयू को सवालों के घेरे में खड़ा कर दिया है। ये पहला मामला नहीं है, जब एएमयू छात्र यहां पनाह लेकर आतंकी देशविरोधी गतिविधियों में शामिल रहा हो।

चार माह पहले 16 जुलाई को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की टीम अलीगढ़ आई थी। टीम ने यहां रह रहे झारखंड के फैजान अंसारी के कमरे की तलाशी ली थी। दो दिन बाद उसकी गिरफ्तारी दिखाई गई। जांच में पता चला था कि फैजान करीब तीन वर्ष पहले से ही आतंकी गतिविधियों में संलिप्त हो गया था। यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने से पहले ही वह देश में बड़े हमले की साजिश रच रहा था।

इसके बाद 14 सितंबर को एनआइए के आने की चर्चाएं होती रहीं। लेकिन, कोई टीम नहीं आई। दो अक्टूबर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने तीन आतंकियों को गिरफ्तार किया। इनमें झारखंड निवासी अरशद वारसी शामिल था, जो 12 साल तक अलीगढ़ में रहा था।

अब रविवार को एटीएस ने अलग-अलग इलाकों से अब्दुल्ला अर्सलान और माज बिन तारिक को गिरफ्तार किया है। तारिक बीकाम का छात्र है, जबकि अब्दुल्ला पेट्रो केमिकल से बीटेक कर चुका है। अब स्थानीय एजेंसियां दोनों आतंकियों के बारे में जानकारी जुटाने में लग गई हैं।