Monday, May 16, 2022

हाथरस केस: और कितनी मौत के बाद खत्म होंगी ये हैवानियत?



जहाँ एक ओर देश कोरोना से लड़ रहा है, वहीं रेप केस की संख्या भी उफान लेते हुए दिख रही है। हर एक रेप केस की सुनवाई और लोगों के विरोध के बाद लगता है अब हैवानियत पर रोक लगेगी पर मासूम लड़कियों की चीख और उन पर हो रहे ज़ुल्म खत्म होने का नाम नहीं ले रहे है।

यह खबर  हाथरस (Hathras) की है जहां 14 सितंबर ऐसी हैवानियत सामने आई जिसने पूरे देश को हिला कर रख दिया। 19 साल की लड़की के साथ पहले आरोपियों ने गैंगरेप किया और उसके बाद उसकी जीभ काट दी ताकि वह किसी के सामने कुछ न बोल सके। इतना ही नहीं दरिंदो ने उसके साथ मारपीट कर रीढ़ की हड्डी भी तोड़ दी। बाद में लड़की को अस्पताल में भर्ती तो कराया गया था। लेकिन 15 दिन के बाद पीड़िता ने मंगलवार 29 सितंबर को सफदरजंग अस्पताल में दम तोड़ दिया। वहीं पुलिस के मुताबिक अभी तक लड़की के रेप की पुष्टि नहीं हुई है।

मौत के बाद अस्पताल से शव को लेकर पुलिस रात के 12 बजकर 45 मिनट पर हाथरस पहुंची। एंबुलेंस के पहुंचते ही लोगों ने विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। यहीं नही प्रदर्शन कर रहे नाराज ग्रामीण सड़क पर ही लेट गए। परिजन शव को अपने घर लेकर जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस अपनी जिद से टस से मस नहीं हुई और अपनी मर्जी से हैवानियत की शिकार लड़की का अंतिम संस्कार कर दिया। घरवालों की कठोर कोशिश और भीख के बाद भी 15 मिनट भर के लिए बेटी के आखिरी दर्शन करने की अनुमति नही दी गयी।

 

पुलिस का बयान

रेप मामले में पुलिस ने कहा, पीड़ित लड़की ने तीन बार बयान दिया और तीनों अलग-अलग हैं। 14 सितंबर को लड़की ने लिखित में शिकायत की थी जिसमें उसने बताया कि संदीप नाम के लड़के ने उसे मारने की कोशिश की, उसका गला दबाया जिसके बाद पुलिस ने 307 एक्ट और  SC/ST Act केस दर्ज किया।

पुलिस के अनुसार लड़की ने दूसरा बयान 22 सितंबर को आलीगढ़ मेडिकल कॉलेज में दिया था जिसमें उसने संदीप पर छेड़कानी का आरोप लगाया। इसके बाद पुलिस ने आरोपी के खिलाफ  354 के तहत मामला दर्ज किया था। पुलिस के अनुसार तीसरा बयान में लड़की ने 27 सितंबर को रेप का आरोप लगाया और उसमें 3 और लड़कों के नाम लिए जिसके बाद पुलिस ने 376 का मामला दर्ज किया गया था।

 

सोशल मीडिया पर जारी पुलिस का बयान

हाथरस पुलिस ने सोशल मीडिया पर बयान जारी किया जिसमें जीभ काटने और रीड की हड्डी तोड़ने की बात से साफ इंकार किया है। पुलिस ने ट्विटर पर लिखा, “सोशल मीडिया के माध्यम से यह असत्य खबर सार्वजनिक रुप से फैलाई जा रही है कि थाना चंदपा क्षेत्रान्तर्गत दुर्भाग्यपूर्ण घटित घटना में मृतिका की जीभ काटी गई, आंख फोड़ी गई और रीढ़ की हड्डी तोड़ दी गई थी। हाथरस पुलिस इस असत्य एवं भ्रामक खबर का खंडन करती है।”

पुलिस ने बयान में आगे लिखा, “सच्चाई यह है कि मेडिकल रिपोर्ट में जीभ काटने व आंख फोड़ने का कोई उल्लेख नहीं है। रीढ़ की हड्डी भी तोड़ी नहीं गई, बल्कि गला दबाने के कारण रीढ़ की हड्डी ठीक से काम नहीं कर रही है एवं गर्दन दबाने पर दांतों के बीच में जीभ के आ जाने के कारण चोट का निशान है।”

आईजी पीयूष मोर्डिया ने मामले पर जानकारी देते हुए कहा, “14 सितंबर को 10:30 बजे पीड़िता के भाई सत्येंद्र ने एक लिखित तहरीर दी। उसने कहा कि जब उसकी बहन बाजरे के खेत में घास काट रही थी तो संदीप नाम के एक लड़के ने गला दबाकर उसे जान से मारने का प्रयास किया। सत्येंद्र की लिखित तहरीर पर तुरंत FIR दर्ज की गई और पीड़िता को इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया।”

 

पुरा मामला

हाथरस जिले के चंदपा थाने के गांव में 14 सितंबर की सुबह 19 वर्षीय लड़की के साथ गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया गया। परिवार वालों का कहना है कि सुबह 9:30 बजे के करीब चार दबंगों ने लड़की के साथ गैंग रेप और दरिंदगी की। घटना के 9 दिन बाद लड़की को होश आया तो इशारों से अपना दर्द बयान किया।

अलीगढ़ में भर्ती पीड़िता की हालात बिगड़ने पर उसे सफदरजंग अस्पताल में भेजा गया। लेकिन यहां भी पीड़िता को बचाया नहीं जा सका और मंगलवार सुबह पीड़िता ने दम तोड़ दिया। वारदात के बाद अब हाथरस पुलिस चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर अपनी पीठ थपथपा रही है।

 

प्रधानमंत्री ने होनी चाहिए कड़ी कार्रवाई

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बात की है। सीएम योगी ने ट्वीट करके जानकारी दी कि पीएम नरेंद्र मोदी ने हाथरस की घटना पर वार्ता की है और कहा है कि दोषियों के विरुद्ध कठोरतम कार्रवाई की जाए। इस मामले की जांच के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने एसआईटी का गठन कर दिया है।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि हाथरस में बालिका के साथ घटित दुर्भाग्यपूर्ण घटना के दोषी कतई नहीं बचेंगे। प्रकरण की जांच हेतु विशेष जांच दल का गठन किया गया है। यह दल आगामी सात दिवस में अपनी रिपोर्ट देगा। त्वरित न्याय सुनिश्चित करने हेतु इस प्रकरण का मुकदमा फास्ट ट्रैक कोर्ट में चलेगा।

 

UP में बढ़ते मामले

आये दिन एक नया दुषकर्म का मामला सामने आता है, कुछ समय पहले आया लखीमपुर खीरी का मामला भी तूल पकड़ा था। जहां शौच के लिए घर से बाहर गई 13 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप और आँखे फोड़, जीभ काटने के बाद खेत में फेंक देने का मामला था।

हाथरस की वारदात में भी यह ही शोषण किया गया है। लगातार महिलाओं पर आ रहे एक जैसे मामले प्रदेश प्रशासन पर सवाल उठाती है।

you may also like