Monday, May 16, 2022

MP: भिंड में निकली शराब का मामला आया सामने



बीते शुक्रवार को इंदुर्खी गांव के रहने वाले सगे भाई मनीष और छोटू जाटव की शराब पीने के बाद मौत हुई थी। वहीं एक अन्य साथी की हालत खराब होने के बाद आंखों की रोशनी कम हो गई थी। जब खबर पुलिस को लगी तो पुलिस ने पूरे मामले की पड़ताल की।

यूपी की तरह मध्य प्रदेश में भी अपराधियों के घर पर बुलडोजर चलने लगा है. भिंड पुलिस ने अवैध शराब फैक्ट्री संचालन के आरोप में पकड़े गए धर्मवीर बघेल के स्वतंत्र नगर स्थित निर्माणाधीन मकान को धराशाई कर दिया. धर्मवीर बघेल के मकान में शराब तैयार कराई गई थी ,आरोपियों ने अपने दो अन्य साथी आर्यन शर्मा और विकाश यादव तक पहुंचाया। इसके बाद चारों ने मिलकर बताया कि शराब पीने से हुई मौत के बाद उन्होंने को शराब नाले में बहा दिया था। कुछ पेटियों को रतनूपुरा में घर के अंदर बने कुएं में फेंका और ऊपर से करब डालकर आग लगा दी थी। 28 पेटी शराब को बोरों में भरकर कुएं में फेंका और ऊपर से मिट्टी डाल दी।

फरियादी छुटई ने बताया कि मेरे बेटे संतोष (45) साल की तबीयत खराब हुई। पेट में दर्द, उल्टी और आंखों से दिखना कम हुआ। इस परिजनों ने ग्वालियर के निजी अस्पताल में भर्ती कराया जहां सोमवार-मंगलवार की रात सवा 12 मौत हो गई। इसके बाद शव को घर लाए और परिजनों को जानकारी न होने से शव का अंतिम संस्कार कर दिया है। इसके बाद पता चला कि संतोष ने अपने साथी रतीराम के साथ शराब का सेवन किया था। इस वजह से दोनों की तबीयत खराब हुई थी। इस पूरे मामले में सीएम शिवराज सिंह चौहान ने भी भिंड एसपी समेत चंबल एडीजी को फटकार भी लगाई थी जिसके बाद अब पुलिस प्रशासन मिलकर इस मामले को सख्ती के साथ हैंडल कर रहा है.

you may also like