Monday, May 16, 2022

UP: नहीं थम रहा हैवानियत का मंज़र



जहाँ एक ओर देश कोरोना से लड़ रहा है, वहीं रेप केस की संख्या भी उफान लेते हुए दिख रही है।  हर एक रेप केस की सुनवाई और लोगों के विरोध के बाद लगता है अब हैवानियत पर रोक लगेगी पर मासूम लड़कियों की चीख और उन पर ये ज़ुल्म ख़तम होने का नाम नहीं ले रहे है।  हर दिन कोई नया केस आता दिख रहा है, इसी पर एक और खबर आयी है यूपी के लखीमपुर खीरी की जहाँ 13 वर्षीय नाबालिक के साथ दुष्कर्म कर फिर एक बार हुई इंसानियत शर्मसार।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में दरिंदों ने एक नाबालिग दलित लड़की के साथ वहशीपन की हदें पार कर दी।  शौच के लिए घर से बाहर गई इस 13 साल की छात्रा के साथ गैंगरेप की वारदात सामने आयी है।  इन हैवानो की दरिंदगी यहीं नहीं थमी, इस शोषण के बाद उन्होंने नाबालिग की आँखे फोड़ और जीभ काट कर उसे गन्ने के खेत में फेक दिया। बताया जा रहा है कि बच्ची के गले में पट्टा डालकर भी घसीटा गया था।

पुलिस के मुताबिक बच्ची 14 अगस्त की दोपहर करीब 1 बजे अपने घर से शौच के लिए गन्ने के खेतों की तरफ गई थी। घरवालों के लिए ये सामान्य सी बात थी, परिवार वालों ने बच्ची की तलाश तब शुरू करी जब लड़की काफी देर बाद भी वापस नहीं लौटी और इसी के साथ ही बच्ची की गुमशुदगी की सूचना स्थानीय पुलिस को भी दी।

इस घटना को लेकर राज्य का सियासी पारा भी चढ़ता हुआ दिखाई दे रहा है। पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने इस घटना पर दुख जाहिर करते हुए इस मामले को शर्मनाक करार दिया। पूर्व सीएम ने ट्वीट करते हुए कहा यूपी के लखीमपुर खीरी के पकरिया गांव में दलित नाबालिग के साथ बलात्कार के बाद उसकी नृशंस हत्या अति-दुःखद व शर्मनाक। ऐसी घटनाओं से सपा व वर्तमान भाजपा सरकार में फिर क्या अन्तर रहा? सरकार आजमगढ़ के साथ खीरी के दोषियों के विरूद्ध भी सख्त कार्रवाई करे, बीएसपी की यह मांग है।

जहाँ 13 साल की उम्र में बच्चे को उसके साथ होता दुष्कर्म जब समझ भी नहीं आता है, उस उम्र में उसके साथ रेप और फिर ऐसी हैवानियत की खबर सुनकर रोंगटे खड़े हो जाते है।

सोचने की बात है जहाँ मुजरिमों को फांसी की सजा भी सबसे गंभीर मानी जाती है, वहां एक मासूम पर इस तरह की हैवानियत की क्या सजा हो सकती है? अब सवाल सिर्फ ये नहीं है कि क्यों आ रहे है ऐसे मामले पर सवाल ये भी है कि जिस देश में नौजवानो जनसँख्या विश्व में सबसे ज्यादा है वहीँ ऐसे बढ़ते मामलो की क्या और वजह हो सकती है? क्या मानसिकता है इन लोगो की जो इन्हे ऐसे हैवानियत तक पहुँचती है?

 

you may also like